मर्सिडीज-बेंज ने बेचीं 2023 में सबसे ज्यादा गाड़ियां, जानिए पूरा विवरण

मर्सिडीज-बेंज ने 2023 में बेचीं कुल 17,408 गाड़ियां जो अभी तक की सबसे बढ़िया सेल्स रिकॉर्ड है

2023 में, मर्सिडीज-बेंज इंडिया ने पिछले वर्ष की तुलना में 10 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करते हुए अपनी अब तक की सबसे अधिक वार्षिक बिक्री हासिल की। बिक्री में सफलता एसयूवी, सेडान और इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ती मांग से प्रेरित थी। कंपनी ने 2023 में 17,408 यूनिट्स बेचने की सूचना दी, जो 2022 में 15,822 यूनिट्स बेचीं थी। आइए जानते हैं मर्सिडीज़-बेंज सफलता के कोनसे मुख्य कारण हैं।

पेट्रोल व्हीकल सेल्स

2024-mercedes-benz-gls-facelift-rear-angle
Source: Mercedes-Benz

मर्सिडीज़-बेंज ने सबसे ज्यादा SUVs बेचीं जो कंपनी की 55% सेल्स की हिस्सेदारी रही थी। इन गाड़ियों में मर्सिडीज़ की GLC, GLE, GLA और GLS शामिल हैं। कंपनी की लक्ज़री सेडन्स जैसे A-क्लास, C-क्लास, E-क्लास, और S-क्लास शामिल हैं जिनकी हिस्सेदारी 45% रही। कंपनी ने तीनो सेगमेंट जैसे एंट्री-लेवल, मिड, और टॉप-एन्ड मॉडल्स सबने मर्सिडीज़-बेंज की सेल्स में बेहतर परफॉर्म करा।

मर्सिडीज़-बेंज की E-क्लास लॉन्ग व्हील बेस (LWB) कंपनी की सबसे ज्यादा बिकने वाली गाडी रही। यह गाडी देश में सबसे लोकप्रिय लक्ज़री सेडान में से एक है जो पेश करती है शानदार डिज़ाइन, बेहतरीन परफॉरमेंस और फ्यूचरिस्टिक केबिन जो कम्फर्ट और टेक से भरा है।

इलेक्ट्रिक व्हीकल सेल्स

Mercedes-benz-eqs-suv-front-side-view
Source: Engadget

कंपनी की हाल ही में लॉन्च की गयी इलेक्ट्रिक कारों की सेल्स भी अच्छी रही जो मर्सिडीज़-बेंज के आने वाले पोर्र्टफ़ोलिओ की हिस्सेदार बनेगी। कंपनी के अभी के लाइनअप में EQB SUV, EQE SUVम और EQS सेडान शामिल हैं। इनकी भी सेल्स ने ग्राहकों को लोभाया है अपने डिज़ाइन और शानदार लक्ज़री से भरा केबिन और बेहतरीन परफॉरमेंस और लम्बी दूरी की रेंज।

सेल्स परफॉरमेंस और ग्रोथ

2024-mercedes-benz-s-63-e-performance-sedan
Source: Motor1

भारत का लक्ज़री कार मार्किट मास-मार्केट में 20% की ग्रोथ करि प्रोजेक्शन से कई ज्यादा है। कंपनी का मन्ना है भारत का लक्ज़री कार मार्केट और भी बढ़ेगा जिससे कंपनी का टारगेट 80,000 सेल्स 2030 तक पुहंचाने में मद्दद करेगा। मर्सिडीज़-बेंज इंडिया ने अपने प्रॉफिट को दोगुना करा है 2022-23 फाइनेंसियल साल में। कंपनी का नेट प्रॉफिट पहली बार 841 करोड़ रुपए ($100 मिलियन) तक गया जो बहुत ही अच्छी बात है सेल्स के पॉइंट से। कंपनी ने कुल 16,497 कारें बेचीं जिसकी वजह से उनके प्रॉफ़िट्स 65% तक बढ़े।

निष्कर्ष

कंपनी अपनी सफलता का श्रेय बेहतर उत्पादों, टॉप-एंड वाहनों (टीईवी) की शुरूआत, बेहतर ग्राहक अनुभव और भारतीय बाजार के लिए उपयुक्त समाधानों को देती है। लक्जरी कार बाजार में सकारात्मक वृद्धि बदलती धारणाओं और बढ़ती अर्थव्यवस्था को दर्शाती है, साथ ही लक्जरी सेगमेंट में निरंतर वृद्धि की उम्मीदें भी हैं।

यह भी देखिये: 5 नई मिड-साइज SUVs जो भारत में जल्द लॉन्च होंगी

Leave a comment